मंगलवार, 22 मई 2012

तस्वीरें कुछ कहती हैं...


 एक तो गर्मी ये एसी भी अभी खराब होना था।

 अगर तूने रास्ते में धोखा दे दिया तो....।

 यहां धूप तो है मगर सुकून ज्यादा है.......... ।

 इसे कहते हैं मोटर साईकिल...........

 क्रिएटिव माइंड आपने सोचा कभी ऐसा....

....अब नेटवर्क आ गए अब  आवाज आ रही है......

. आज स्कूल का रिक्शा छूट गया, तू ही छोड़ आ।



अगली बार बीवी से झगड़ा नही करेंगे.....प्रोमिस........। 

अकेले सिर के लिए तीन चोटियां दो चार होते तो ..............

  परंमआनंद यहीं है यहीं है यहीं है.........।



  देश ओ दुनिया में क्या चल रहा है।

पापा को ज्यादा काम करना पड़ता है थोड़ी मदद ही कर दूं। 

                                लगता है एमएफ हुसैन ने चित्रकारी इन्ही महाशय से सीखी होगी............।

                               जमाना  बहुत बदल गया है इब मैं भी तो बदलूं अपणे आप णे...।
जी हां दिस काल्ड हायर स्टडीज...........

... इनसे सीखिए हैडफोन का इस्तेमाल करना

चप्पल चोर भी तो कम नहीं हैं देश में। 

जिंदगी का वजन इनसे कहीं भारी है।

   कौन कहता है कि सूरज इतना बड़ा है।

साधू बनना कोई आसान नहीं है।

हवा हवाई...................

तुझे कच्चा चबा जाऊंगा।

चलो एक ही बार में सारा सामान आ गया.......Ü


1 टिप्पणी: