शनिवार, 5 जुलाई 2014

 घर की अलमारी में, दराजों में, पुराने बक्से में
 बहुत ढूंढा  मगर, बीता वक्त कहीं मिला नहीं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें