सोमवार, 14 जुलाई 2014

कुछ तो कहो.............

रह गई किस चीज की मुझमें कमी कुछ तो कहो
किस तरह होगी मुकम्मल जिंदगी कुछ तो कहो
आज तो जलता हुआ था धूप में मौसम मगर,
फिर हवा में आ गई कैसी नमी, कुछ तो कहो
आसमां सुनसान है क्यों, गुम खड़े हैं क्यों दरख्त,
शहर क्यों उजड़ा हुआ है, तीरगी कुछ तो कहो
घंटियों की क्यों सदा आती नहीं मंदिर से अब,
दूर क्यों बजती नहीं है बांसुरी, कुछ तो कहो
इस अंधेरे के सिवा दिखता नहीं क्यों और कुछ
हो गई सूरज को क्या नाराज़गी कुछ तो कहो
दूर है मुझसे तबस्सुम, गम ही गम नज़दीक है
किस तरह मरकर कटेगी जिंदगी कुछ तो कहो
गर्दिशों की रहगुजर में शाम क्यों आती नहीं
है अभी कितना सफर वीरानगी कुछ तो कहो
तक रहा था देर तक क्यों आईना डिम्पल मुझे
लग रही हूं आज क्या मैं अजनबी कुछ तो कहो

14 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, निश्चय कर अपनी जीत करूँ - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना बुधवार 16 जुलाई 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कमाल की ग़ज़ल है.. तख़य्युल बेहतरीन और बहर ऐसी के जैसे आबशार हो!! कम्माल! मेरे बच्चों की याद आ गयी.. स्वप्निल और दिलीप!! जीते रहिये!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. है अभी कितना सफर वीरानगी कुछ तो कहो.
    वाह बेहतरीन ..... और भी अच्छी लिखने के लिए शुभकामनाए

    उत्तर देंहटाएं
  5. सामाजिक परिवेश और परिस्थितियों से मन में उभरने वाले विचारों को प्रभावशाली शब्दों का रूप देना ही साहित्यिक कला है। आपकी प्रस्तुत रचना व अन्य लेखन में इसकी झलक साफ दिखाई देती है। बधाई
    शाहिद मिर्जा शाहिद

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज तो जलता हुआ था धूप में मौसम मगर,
    फिर हवा में आ गई कैसी नमी, कुछ तो कहो ..
    खूबसूरत आशआर है इस लाजवाब ग़ज़ल का ... बहुत उम्दा ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. फिर हवा में आ गई कैसी नमी, कुछ तो कहो...
    हो गई सूरज को क्या नाराज़गी कुछ तो कहो...

    उम्दा, बहुत उम्दा.

    उत्तर देंहटाएं